JantERmantER

भारत हेवी इलेक्ट्रिकल्‍स लिमिटेड
पावर सेक्‍टर पूर्वी क्षेत्र
आई एस ओ 9001ः2008 एवं आइएसओ 27001ः2013 प्रमाणित संगठन

JantERmantER in English

बीएचईएल पीएसईआर के इंटरनेट पृष्‍ठ पर आपका स्‍वागत है

अंतर्वस्‍तु

भेलगीत (1 ट्रैक)

भेलगीत (2 ट्रैक)

निविदा सूचना

वेंडर्स एरिया

लोकपाल एवं लोकायुक्‍त अधिनियम 2013 के तहत फॉर्मेट

सूचना का अधिकार

सूचना बोर्ड

बीएचईएल पीएसईआर में स्‍वच्‍छ भारत अभियान

चक्षु दान पर जागरूकता फैलाने वाली फिल्‍म

   
पीएसईआर के विशिष्‍ट कीर्तिमान

बीआरबीसीएल नबीनगर यूनिट -3 (250 मेगावाट) :
एलपी टरबाइन बॉक्स-अप 31/03/2018 को सफलतापूर्वक पूरा हुआ ।

बीएसईबी बरौनी यूनिट -9 (250 मेगावाट) :
सिंक्रनाइज़ेशन और पूर्ण लोड 31/03/2018 को सफलतापूर्वक प्राप्त ।

बीआरबीसीएल नबीनगर यूनिट -3 (250 मेगावाट) :
बीएफडी सिस्टम हाइड्रो टेस्ट 27/03/2018 को सफलतापूर्वक पूरा हुआ ।

बरौनी आर एंड एम यूनिट -6 (110 मेगावाट):
टीजी को 27/03/2018 को 3000 आरपीएम पर लाया गया, सभी पैरामीटर स्वीकार्य सीमा के भीतर पाए गए।

आर.वी.यूएनएल सूरतगढ़ यूनिट 7 (660 मेगावाट):
पूर्व-बॉयलर डिटर्जेंट फ्लशिंग (जिसमें बॉयलर फीड वॉटर, कंडेनसेट और एचपी-एलपी ड्रिप पाइपलाइन शामिल है) साथ में रिंसिंग और पासिवेसन 21/03/2018 को सीनियर आरआरवीयूएनएल और भेल के अधिकारियों की उपस्थिति में सफलतापूर्वक पूरा किया गया।

बीएसईबी बरौनी यूनिट -9 (250 मेगावाट):
18/03/2018 को बारिंग गियर सफलतापूर्वक प्राप्त हुआ ।

बीएसईबी बरौनी यूनिट -9 (250 मेगावाट):
09/03/2018 को स्‍टीम ब्‍लोइंग सफलतापूर्वक पूरा हुआ ।

इसको बर्नपुर:
यूबी -2 का पीजी टेस्ट (200 टीपीएच) सफलतापूर्वक 16/03/2018 को पूरा हुआ ।

ओपीजीसीएल आईबी वैली यूनिट -3 (660 मेगावाट):
बॉयलर फ़ीड निर्वहन और पुनर्चक्रण लाइनों के हाइड्रो टेस्ट बॉयलर फ़ीड निर्वहन 15/03/2018 को कारखानों और बॉयलर, ओडिशा के सहायक निदेशक द्वारा प्रमाणित 532 किग्रा / वर्ग से.मी. ।

इसको बर्नपुर:
यूबी -1 (200 टीपीएच) का पीजी टेस्ट 27/02/2018 को सफलतापूर्वक पूरा हुआ ।

एनएसपीसीएल राउरकेला (250 मेगावाट):
25/02/2018 को टीजी डेक कास्टिंग प्राप्त हुआ ।

बीएसईबी बरौनी आर एंड एम यूनिट -6 (110 मेगावाट):
स्टीम ब्लोइंग सफलतापूर्वक 24/02/2018 को पूरा हुआ।

बीएसईबी बरौनी यूनिट -9 (250 मेगावाट):
स्‍टीम ब्‍लोइंग 22/02/2018 को शुरू हुआ।

पुनात्सांगछु -1 यूनिट -1 (200 मेगावाट):
03/02/2018 को सफलतापूर्वक स्टेटर को लोवर्ड किया गया ।

बीएसईबी बरौनी यूनिट -9 (250 मेगावाट):
02/02/2018 को पूर्ण होने वाले प्रथम चरण के पैसिवेशन के साथ एसिड सफाई।

नीपको टूयरियल यूनिट -2 (30 मेगावाट):
परीक्षण ऑपरेशन 29/01/2018 को पूरा हुआ ।

बीएसईबी बरौनी यूनिट -9 (250 मेगावाट):
अलकली बॉयलर कमीशन 26/01/2018 को पूरा हुआ ।

बीएसईबी बरौनी यूनिट -9 (250 मेगावाट):
17/01/2018 को पूरी तरह से फीड लाइन, कंडेनसेट लाइन और ड्रिप लाइन के लिए प्री-बॉयलर फ्लशिंग पूरा किया गया ।

बीएसईबी बरौनी यूनिट -8 (250 मेगावाट):
11/01/2018 को पूर्ण लोड प्राप्त हुआ ।

आईओसीएल परादीप यूबी -3:
पीजी टेस्ट 10/01/2018 को पूरा हुआ ।

आईओसीएल परादीप यूबी -2:
पीजी टेस्ट 09/01/2018 को पूरा हुआ ।

आईओसीएल परादीप यूबी -1:
पीजी टेस्ट 08/01/2018 को पूरा हुआ ।

ओपीजीसीएल आईबी वैली यूनिट -3 (660 मेगावाट):
बॉयलर ड्रेनेबल हाइड्रो टेस्ट सफलतापूर्वक 23/12/2017 को पूरा हुआ ।

एनपीजीसीएल नबीनगर यूनिट -1 (660 मेगावाट):
स्‍टीम ब्‍लोइंग के सभी चरण 22/12/2017 को सफलतापूर्वक पूर्ण किए गए।

आर.वी.यूएनएल सूरतगढ़ (2 x 660 मेगावाट):
फायर प्रोटेक्शन पैकेज की फोम सिस्टम कमीशन 1 9/12/2017 को सफलतापूर्वक पूरा हुआ।

आर.वी.यूएनएल सूरतगढ़ यूनिट -7 (660 मेगावाट):
बॉयलर का नॉन ड्रेनेबल हाइड्रो टेस्ट 18/12/2017 सफलतापूर्वक पूरा हुआ ।

एनपीजीसीएल नबीनगर यूनिट -2 (660 मेगावाट):
बॉयलर के ड्रेनेबल हाइड्रो परीक्षण 17/12/2017 को सफलतापूर्वक पूरा किया गया।

नीपको तूयरियल एचईपी (2 x 30 मेगावाट):
16/12/2017 को भारत के माननीय प्रधान मंत्री द्वारा परियोजना उद्घाटन ।

आईपीसीएल हल्दिया यूनिट -2 (150 मेगावाट):
15/12/2017 को कोयला सिंक्रोनाइजेशन किया गया ।

आईओसीएल परादीप यूबी -4:
ईडीटीए सफाई सफलतापूर्वक 14/12/2017 को पूर्ण हुई ।

आईपीसीएल हल्दिया यूनिट -2 (150 मेगावाट):
12/12/2017 को तेल सिंक्रनाइज़ेशन किया गया ।

ओपीजीसीएल आईबी वैली (2 x 660 मेगावाट):
08/12/2017 तक 10 मिलियन आदमी घंटे एलटीआई मुफ़्त कामकाज ।

ओपीजीसीएल आईबी वैली यूनिट -4 (660 मेगावाट):
बॉयलर ड्रेनेबल हाइड्रो टेस्ट 30/11/2017 को सफलतापूर्वक पूरा हुआ ।

नीपको टूअरियल एचईपी यूनिट -2 (30 मेगावाट):
28/11/2017 को सिंक्रनाइज़ किया गया और 28/11/2017 को पूर्ण लोड हासिल ।

ओपीजीसीएल आईबी वैली यूनिट -4 (660 मेगावाट):
एपीएच -4 ए मॉड्यूल निर्माण निम्न केंद्र (शीत समाप्ति) निर्माण की शुरुआत से 17 दिनों के लिए रिकॉर्ड समय में पूरा हुआ। 11/11/2017 को बॉटम सेंटर सेक्‍सन बनाया गया और 27/11/2017 को मॉड्यूल निर्माण पूरा हुआ।

नीपको टूरियल एचईपी यूनिट -2 (30 मेगावाट):
17/11/2017 को 230 आरपीएम की गति से चालू किया गया ।

बीएसईबी बरौनी यूनिट -8 (250 मेगावाट):
14/11/2017 को सिंक्रनाइज़ेशन किया गया ।

आर.वी.यूएनएल सूरतगढ़ यूनिट -7 (660 मेगावाट):
09/11/2017 को 47 आरपीएम की गति के साथ बारिंग गियर पूरा किया गया ।

एनएसपीसीएल राउरकेला (250 मेगावाट):
बॉयलर ड्रम लिफ्टिंग 04/11/2017 को किया गया ।

एनटीपीसी बोंगाईगांव यूनिट -2 (250 मेगावाट):
01/11/2017 को 00:00 बजे तक सीओडी पूरा हुआ।

नीप्‍को टुरियल एचईपी यूनिट -1 (30 मेगावाट):
29/10/2017 को 22:00 बजे परीक्षण सफलतापूर्वक पूरा हो गया ।

ओपीजीसीएल आईबी वैली यूनिट -3 (660 मेगावाट):
एपीएच -3 ए मॉड्यूल निर्माण 29 सितंबर, 2007 को बॉटम सेंटर सेक्शन (Cold End) निर्माण के प्रारंभ से 20 वें दिन तक रिकार्ड समय में पूरा हुआ।

नॉर्थ करनपुरा यूनिट -2 (660 मेगावाट):
25/10/2017 को बॉयलर का सिलिंग गर्डर इरेक्‍सन हुआ ।

नॉर्थ करनपुरा यूनिट -3 (660 मेगावाट):
ईएसपी पास ए के लिए 25/10/2017 को इलेक्ट्रोड एकत्रित करना प्रारंभ किया गया ।

आईपीसीएल हल्दिया यूनिट -2 (150 मेगावाट):
25/10/2017 को टर्बाइन बॉक्स अप प्राप्त किया गया ।

आर.वी.यूएनएल सूरतगढ़ (2 x 660 मेगावाट):
ऑक्‍जीलियरी बॉयलर लाइट-अप, 07/10/2017 को सफलतापूर्वक पूरा हुआ ।

मंगदेचु यूनिट -1 (180 मेगावाट):
रोटर 06/10/2017 को बैरल के अंदर सफलतापूर्वक उतारा गया ।

आर.वी.यूएनएल सूरतगढ़ यूनिट -8 (660 मेगावाट):
बॉयलर लाइट अप 28/09/2017 को किया गया ।

एनपीजीसीएल नबीनगर यूनिट -1 (660 मेगावाट):
बॉयलर का स्टीम ब्लोइंग (प्रथम चरण) 22/09/2017 को शुरू हुआ।

आईपीसीएल हल्दिया यूनिट 2 (150 मेगावाट):
स्टीम ब्लोइंग ऑपरेशन 16/09/2017 को सफलतापूर्वक पूरा हुआ।

बीसीपीएल लेपेतकाटा:
जीटी -2 और एचआरएसजी -2 का पीजी टेस्ट 15/09/2017 को सफलतापूर्वक किया गया।

बीएसईबी बरौनी यूनिट -8 (250 मेगावाट):
स्टीम ब्‍लोइंग (सभी चरणों) 03/09/2017 को सफलतापूर्वक पूरा हो गया।

बीआरबीसीएल नबीनगर यूनिट -2 (250 मेगावाट):
सीओडी 27/08/2017 के 23:45 बजे से 30/08/2017 के 23:45 बजे तक सफलतापूर्वक पूरा हुआ।

आईपीसीएल हल्दिया (3 x 150 मेगावाट):
साइट पर एलटीआई मुक्त 1076 दिन पूरा हुआ ।

एनटीपीसी बोंगाईगांव (3 X 250 मेगावाट):
साइट पर एलटीआई मुक्त 1840 दिन पूरा हुआ ।

बीएसईबी बरौनी यूनिट -9 (250 मेगावाट):
बॉयलर लाइट अप सफलतापूर्वक 29/08/2017 को प्राप्त हुआ ।

नीपको टुरियल एचईपी यूनिट -1 (30 मेगावाट):
25/08/2017 को पूर्ण लोड प्राप्त ।

बरौनी आर एंड एम यूनिट -6 (110 मेगावाट):
यूनिट -6 टीजी तेल फ्लशिंग 20/08/2017 को शुरू हुआ।

बरौनी आर एंड एम यूनिट -6 (110 मेगावाट):
ईडीटीए के साथ बॉयलर की रासायनिक सफाई सफलतापूर्वक 1 9/08/2017 को पूरी हुई ।

नीपको टुरियल एचईपी यूनिट -1 (30 मेगावाट):
यूनिट 14/08/2017 को सिंक्रनाइज़ किया गया |

बीएसईबी बरौनी यूनिट -9 (250 मेगावाट):
गैर ड्रेनेबल हाइड्रो टेस्ट 10/08/2017 को सफलतापूर्वक संपन्न हुआ |

बीएसईबी बरौनी यूनिट -8 (250 मेगावाट):
08/08/2017 को स्‍टीम ब्लोइ्ंग प्रारंभ |

एनपीजीसीएल नबीनगर यूनिट -1 (660 मेगावाट):
बॉयलर की रासायनिक सफाई सफलतापूर्वक 02/08/2017 को पूरी की गई

बीएसईबी बरौनी यूनिट -8 (250 मेगावाट):
01/08/2017 को रीहीटर का हाइड्रो परीक्षण किया गया

आईओसीएल परादीप:
जीटीजी-1 और एचआरएसजी -1 का पीजी टेस्ट 30/07/2017 को पूरा हुआ।

बीएसईबी बरौनी यूनिट -8 (250 मेगावाट):
25/07/2017 को एमएस पाइप का हाइड्रो परीक्षण किया गया ।

एनपीजीसीएल नबीनगर यूनिट -1 (660 मेगावाट):
16/07/2017 बॉयलर लाइट अप किया गया ।

नीपको तूरियल यूनिट -1 (30 मेगावाट):
15/07/2017 को रेट किए गए गति पर सफलतापूर्वक चलाया गया

आईपीसीएल हल्दिया यूनिट 2 (150 मेगावाट):
10/07/2017 को ग्राहक के उच्च अधिकारी की उपस्थिति में एबी उत्थापन के सभी चार गन पहली बार में ही कार्यान्वित हुए ।

आईओसीएल परादीप:
जीटीजी -2 और एचआरएसजी -2 का पीजी परीक्षण 09/07/2017 को पूरा हुआ

एनपीजीसीएल नबीनगर (3 x 660 मेगावाट):
04/07/2017 को 106.5 किग्रा / वर्ग सेमी के दबाव में पूरे रीहीटर सर्किट का हाइड्रो परीक्षण किया गया

नटीपीसी बोंगाईगांव यूनिट -3 (250 मेगावाट):
01/07/2017 को बॉयलर लाइट अप किया गया

एनएसपीसीएल राउरकेला (250 मेगावाट):
28/06/2017 को टीजी राफ्ट कास्टिंग किया गया

बीएसईबी बरौनी यूनिट -8 (250 मेगावाट):
पूर्व बॉयलर फ्लशिंग सफलतापूर्वक 22/06/2017 को पूरा किया गया

नीपको कामेंग यूनिट -3 (150 मेगावाट):
21/06/2017 को गड्ढे में 252 मीट्रिक टन का कुल वजन सफलतापूर्वक उतारा गया

बीएसईबी बरौनी यूनिट -8 (250 मेगावाट):
गियर को छोड़कर 20/06/2017 को सफलतापूर्वक हासिल किया गया

नीपको तूयरियल यूनिट -1 (30 मेगावाट):
20/06/2017 को यूनिट बॉक्स और संरेखण किया गया

नीपको कामेंग यूनिट -3 (150 मेगावाट):
स्टेटर का एचवी टेस्ट 18/06/2017 को 01:25 अपराह्न पर 29.5 केवी पर सफलतापूर्वक पूरा हुआ

बीएसईबी बरौनी यूनिट -8 (250 मेगावाट):
18/06/2017 को बॉयलर लाइट अप किया गया

उत्तर करनपुरा यूनिट -2 (660 मेगावाट):
ईएसपी पास बी में इलेक्ट्रोड को एकत्रित करने का निर्माण 12/06/2017 को शुरू हुआ

आईपीसीएल हल्दिया यूनिट 1 (150 मेगावाट):
07/06/2017 को पूर्ण लोड प्राप्त

आरआरयूवीएनएल सूरतगढ़ यूनिट 8 (660 मेगावाट):
बॉयलर उच्च दबाव बीएफडी लाइन हाइड्रो टेस्ट 06/06/2017 को 532 किलोग्राम / वर्ग सेमी पर सफलतापूर्वक हासिल किया गया

बीएसईबी बरौनी यूनिट -8 (250 मेगावाट):
बॉयलर के गैर-ड्रेनेबल हाइड्रो टेस्ट (एनडीएचटी) 05/06/2017 को 274 किलोग्राम / वर्ग सेमी दबाव में सफलतापूर्वक संचालित किया गया

आरयूवीएनएल सूरतगढ़ यूनिट -7 (660 मेगावाट):
मुख्य स्टीम लाइन का हाइड्रो परीक्षण 31/05/2017 को सफलतापूर्वक पूरा हुआ।

एनपीजीसीएल नबीनगर यूनिट -1 (660 मेगावाट):
मुख्य स्टीम लाइन का हाइड्रो परीक्षण 16/05/2017 को सफलतापूर्वक पूरा हुआ।

एनपीजीसीएल नबीनगर (3 x 660 मेगावाट):
ऑक्‍जीलरी बॉयलर 11/05/2017 को सफलतापूर्वक लाइट अप हुआ।

नॉर्थ करनपुरा यूनिट -3 (660 मेगावाट):
ईएसपी निर्माण 28/04/2017 को शुरू हुआ।

नॉर्थ करनपुरा यूनिट -2 (660 मेगावाट):
टीजी डेक कास्टिंग 24/04/2017 को पूरा हुआ।

नॉर्थ करनपुरा यूनिट -1 (660 मेगावाट):
टीजी डेक कास्टिंग 12/04/2017 को शुरू हुआ।

नीपको मोनारचक:
14 दिनों के परीक्षण चलाने सहित 72 घंटे पूर्ण लोड ऑपरेशन 04/04/2017 को सफलतापूर्वक पूरा हुआ।

बीआरबीसीएल नबीनगर यूनिट -2 (250 मेगावाट):
03/04/2017 को पूर्ण लोड प्राप्त।

बीसीपीएल लापेटकाटा:
एसटीजी का पीजी टेस्ट सफलतापूर्वक 03/04/2017 को आयोजित किया गया।

बीआरबीसीएल नबीनगर यूनिट -2 (250 मेगावाट):
02/04/2017 को सिंक्रनाइज़ेशन किया गया ।


भारत हेवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड भारत में आज अपने ही प्रकार का इंजीनियरी एवं उत्पादकता वाला बृहद्तम संगठन है। जिसे लाभ कमाऊ उद्यम एवं कार्यकारिता के लिए पहचाना जाता है। कम्पनी को वर्षों से उसकी सशक्त कार्यकारिता और सामर्थ्य के परिणामस्वरुप महारत्न कंपनियों में स्थान दिया गया है । इस उद्यम को विश्व बाजार में अपनी साख बनाने के लिए सरकार का पूरा-पूरा समर्थन प्राप्त है ।


भारत हेवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड, पावर सेक्टर-पूर्वी क्षेत्र कंपनी के पावर सेक्टर का पूर्वी स्‍कंध है,जिसका मुख्यालय कोलकाता है एवं भारत के पूर्वी क्षेत्र को सेवाएं प्रदान करता है । पूर्वी क्षेत्र के अंतर्गत बिहार , उड़ीसा , पश्चिम बंगाल , असम, मेघालय, मणिपुर, मिजोरम ,अरुणाचल प्रदेश,नागालैंड,त्रिपुरा एवं सिक्किम राज्य आते हैं । इसके अतिरिक्‍त पीएसईआर ने अब औपचारिक सीमाएं पार कर ली हैं एवं आंध्रप्रदेश, तेलंगाना तथा राजस्‍थान जैसे राज्‍यों में परियोजनाएं निष्‍पादित कर रहा है।



हिंदी अनुभाग                            हिंदी परिवार


हमारे ग्राहक-सीएसर्इबी – डीवीसी – एनटीपीसी-बीआरबीसीएल- डब्‍ल्‍यु बी पी डी सी एल – डीपीएल – केबीयुएनएल – एचएनपीसीएल बीएसईबी – एससीसीएल – आरवीयुएनएल – अीपीजीसीएल- ओटीपीसी- अभिजित – एपीएनआरएल – टीएसपीसीएल – सीएसपीजीसीएल – एपीजीसीएल – टाटा पावर – नीप्‍को – आईओसीएल- ईस्‍को - बीआरपीएल – ऑयल – बीसीपीएल – एनएचपीसी – एनपीजीसीएल



भारत हेवी इलेक्ट्रिकल्‍स लिमिटेड
पावर सेक्‍टर पूर्वी क्षेत्र
प्‍लॉट सं डीजे – 9/1सेक्‍टर ।। , करूणामयी, सॉल्‍टलेक सिटि , कोलकाता -700091, भारत
पंजीकृत कार्यालय -बीएचईएल हाउस , सिरि फोर्ट , नई दिल्‍ली -110049

पिछला अद्यतन दिनांक: 02/04/2018